Skip to main content

Posts

नगरीय क्षेत्र एवं आसपास के क्षेत्र में गत वर्ष अल्पवर्षा होने के कारण जलाशयो में पर्याप्त पानी का संग्रहण

नगरीय क्षेत्र एवं आसपास के क्षेत्र में गत वर्ष अल्पवर्षा होने के कारण जलाशयो में पर्याप्त पानी का संग्रहण नहीं हो पाया है. नगरीय क्षेत्र में जुनेवानी और मोही जलाशय में संग्रहित पानी से पेयजल वितरण कराया जा रहा था उक्त दोनों जलाशय पूर्णता सूख जाने के कारण वर्तमान में नगरपालिका द्वारा नगरीय क्षेत्र में किराए के ट्रक ट्रैंकरो से पानी परिवहन कराकर पानी उपलब्ध कराया जा रहा है नगर पालिका स्वामित्व के निजी ट्यूबवेल कुऐं भी सूख जाने के कारण नगर वासियों को पेयजल उपलब्ध कराने का एकमात्र साधन किराये के ट्रक ट्रैंकरो से परिवहन ही है नगरीय क्षेत्र की पेयजल व्यवस्था हेतु प्रतिदिन 25 लाख लिटर पानी की आवश्यकता होती है परंतु ठेकेदार द्वारा ट्रक ट्रैंकरो के माध्यम से 25 लाख लीटर पानी की आपूर्ति नहीं कराई जा रही है जो कि नगरीय क्षेत्र की पेयजल व्यवस्था के लिए पर्याप्त नहीं होने के कारण भीषण पेयजल संकट से निपटने के लिए नगर पालिका द्वारा नगर में 4 दिन के अंतराल में पेयजल वितरण किया जाएगा जिसके लिए नगरपालिका ने नगरवासियों से अपील करती है कि, पानी का अपव्यय ना करें, पानी को व्यर्थ ना बहाये, आवश्यक पानी का स…
Recent posts

हीलाहवाली के कारण अधर में लटका पड़ा कामठी जलाशय कार्य

नगर पालिका में कामठी जलाशय की लिखित स्वीकृति उपलब्ध नहीं
 शहर में विगत कई वर्षों से पेयजल समस्या विक्राल है साथी जमीनीस्तर पर जलस्तर भूमिगत होते जा रहा है. शहरवासियों की वर्षों पुरानी कामठी जलाशय निर्माण कार्य के पीछे राजनीति गरमाई हुई है. शहर की पेयजल समस्या के निराकरण के लिए मुख्यमंत्री शहरी पेयजल योजना के अंतर्गत पूर्व में हि स्वीकृत व प्रस्तावित कामठी जलाशय निर्माण कार्य को आरंभ करने के लिए नई सरकार द्वारा सर्वे पर सर्वे किए गए हैं, बावजूद इसके अभी तक कामठी जलाशय निर्माण कार्य की नगर पालिका पांढुरना में लिखित स्वीकृत उपलब्ध नहीं हो सकी है। गौरतलब है कि (प्रथम बार) जनवरी 2019 को भोपाल से उच्च अधिकारियों ने सर्वे किया था सर्वे करके प्रशासन को रिपोर्ट तैयार कराई गई थी। आपको बता दें कि 1 माह बाद फिर से (दूसरी बार) 1 मार्च को कामठी जलाशय पर गठित समिति द्वारा पांढुरना आकर सर्वे किया गया. जिसमें जबलपुर के उच्च अधिकारी गण शामिल थे. फिर छिंदवाड़ा स्तर के अधिकारियों ने (तीसरी बार) 9 मार्च 2019 को सर्वे किया और बताया कि 4 दिनों बाद फिर से (चौथी बार) एक उच्च अधिकारियों की समिति भोपाल से आएगी औ…

पान्दुर्ना नि:शुल्क साइकिल वितरण योजना में विद्यार्थियों को मिली साइकिल

 PANDHURNA  नि:शुल्क साइकिल वितरण योजना के तहत शहर के शासकीय उर्दू हिंदी हाई स्कूल मैं मंगलवार की दोपहर नपाध्यक्ष प्रवीण पालीवाल की अध्यक्षता निशुल्क साइकिल वितरण की गई. इस अवसर पर नपाध्यक्ष प्रवीण पालीवाल ने छात्र-छात्राओं को सड़क पर चलित यातायात के संबंध में जानकारी दी साइकिल चलाते समय अपने लेफ्ट हैंड पर चले साथ ही दुर्घटनाओं से बचे संबंध की जानकारी दी शाला परिसर से विद्यार्थियों ने निशुल्क साइकिल लेकर हंसी खुशी घर लौटे इस अवसर पर नपाध्यक्ष प्रवीण पालीवाल, वार्ड पार्षद चंद्रभागा पालीवाल, सभापति सुरेश घोड़े, प्राचार्य राजेश तायवडे, आरती गडेकर, कल्पना चरपे, गजानन वंजरी, उइके सर उपस्थित थे.

वोटर आईडी कार्ड बनवाने के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे

अब ONLINE बनाइए अपना वोटर कार्ड कुछ महत्वपूर्ण जानकारी का ध्यान रखना होंगा अब आपको वोटर आईडी कार्ड बनवाने के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। आप अपना वोटर आईडी कार्ड अब घर बैठें कर सकेंगे। इतना ही नहीं आप अपने पुराने वोटर आईडी कार्ड की डिटेल्स भी घर बैठे बदल सकते हैं। चुनाव आयोग की आधिकारिक वेबसाइट पर ये सारी सुविधाएं उपलब्ध हैं और इसके लिए आपको कोई चार्ज भी नहीं देना होगा। सबसे पहले वोटर आईडी कार्ड बनाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट्स का स्कैन किया हुआ कॉपी आपके पास होना चाहिए सबसे पहले वोटर आईडी कार्ड के लिए एक एज प्रूफ का डॉक्यूमेंट होना चाहिए क्योंकि वोटर आईडी कार्ड के लिए न्यूनतम उम्र-सीमा 18 वर्ष की है। एज प्रूफ के लिए आप किसी भी सरकारी ऑथिरिटी से इश्यू किया हुआ जन्म प्रमाण पत्र, स्कूल के सर्टिफिकेट पर दर्ज किया हुआ जन्म तिथि, पैन कार्ड पर दर्ज जन्म तिथि, भारतीय पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस या आधार कार्ड में से किसी भी डॉक्यूमेंट का इस्तेमाल कर सकते हैं

पांडुरना पवार समाज वार्षिक आमसभा का विभिन्न कार्यक्रम के साथ हुए समापन

शब्दपावर.कॉम  पवार मंगल कार्यालय में ‘पवार समाज संगठन’ की वार्षिक आम सभा का हुआ समापन इस दौरान कार्यक्रम की अध्यक्षता मारोतराव खवसे द्वारा की गई. इसके अंतर्गत विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम का आयोजन किया गया. जिसमें अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलित कर मां सरस्वती का पूजन, कुलदेवी एवं राजा भोज पूजन कर सरस्वती वंदना करने के उपरांत स्वागत गीत गाए एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम किए जाने के पश्चात अतिथियों द्वारा उद्बोधन किया गया. तत्पश्चात पवार प्रवाह पत्रिका का वितरण किया गया. कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर आंचलिक कृषि अनुसंधान केंद्र छिंदवाड़ा के सहसंचालक डॉ.विजय पराड़कर, मुख्य अतिथि के.एम. पराड़कर, कार्यक्रम के विशेष अतिथि डॉ. वल्लभ डोंगरे एवं अन्य अतिथि उपस्थित थे.

पाण्डुरना : स्वामी विवेकानंद जयंती, राष्ट्रीय युवा दिवस पर निकाली भव्य रैली

आज दिनांक 12 जनवरी 2019 को स्वामी विवेकानंद जयंती, राष्ट्रीय युवा दिवस के मौके पर सरस्वती शिशु उच्चतर माध्यमिक विद्यालय द्वारा कार्यक्रम एवं नगर में एक भव्य रैली का आयोजन किया । जिसमें स्कूली बच्चे, युवा और आम जनता ने भाग लिया। इस भव्य रैली का पूर्व विधायक कार्यालय के सामने पूर्व विधायक मारोतराव खवसे और उनके सहयोगियों द्वारा फूलों से स्वागत किया गया l इस दौरान नगर से निकलते हुए भव्य रैली का नगर की जनता ने भी जगह जगह पर फूलों से स्वागत किया एवं “भारत माता की जय” व अन्य नारे भी लगाएं l स्वामी विवेकानंद भारत के महान दार्शनिक थे. जिन्होंने पूरी दुनिया को हिन्दुत्व और आध्यात्म का परचम लहराया। उनका मानना था कि युवा किसी भी देश की वो शक्ति है, जो देश को विकसित और दुनिया की ताकत बनाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक मंजिल प्राप्त न हो जाए’ का संदेश देने वाले युवाओं के प्रेरणास्त्रोत, समाज सुधारक युवा युग-पुरुष ‘स्वामी विवेकानंद’ का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता में हुआ। इनके जन्मदिन को ही “राष्ट्रीय युवा दिवस” के रूप में मनाया जाता है। स्वामी विवेकानंद को…

तुम भी अपने सपनों को उड़ान दो जहां बैठो वहीं अपनी पहचान दो

तुम भी अपने सपनों को उड़ान दो जहां बैठो वहीं अपनी पहचान दो क्यों गुम हुए तुम शोर में कुछ वक्त बैठते सागरों के छोर में महसूस करते लहरों की थपकियों को सुनते तुम लहरों  की मधुर तान को लहरों भी तुम्हे पहचान लेती देतीं तुम्हें एक सीप का मोती वो कैद करती तुम्हारी परछाइयों को बना लेतीं वो तुम्ही को दोस्त अपना करती फिर तुम्हारी ही वकालत पार ले जाती तुम्हें वो पलकों पे सजाकर पर भूलती ना वो तुमको उम्र भर तुम भी अपने सपनों को उड़ान दो     जहां बैठो वहीं अपनी पहचान दो   जीतेन्द्र दुबे    सिधी मप्र